साली Ke चुत और बूब्स Ke मज़ा लिया

रौशनी ने पिछले साल से ही ब्रा पहनना चालू किया था। वह 18 की हो गयी थी। उसके चुचियां 28 इंच से भी छोटे थे। पर गांड का उभार बढ़ आया था। मेरी वाइफ निमिषा की छोटी बहन हे रौशनी। और अपने नाम के मुताबिक़ वो सच मे रौशनी ही हे। उसकी एज इतनी हे की मासिक स्टार्ट हो गई हे और उसे चुदाई मे अच्छा बुरा पता लग गया हे। वैसे मै उसके प्रति आकर्षित नहीं होता। पर एक दिन दोपहर मे मै जब अपनी बीवी के साथ संभोग कर रहा था। तब मै उसकी दो नीली आँखों को खिड़की के एक छेद से बारी बारी अन्दर झांकते हुए देखी।

मेरी ये कच्ची उम्र की साली अपनी बहन और जीजा यानी की मुझे चोदते हुए देख रही थी। मैने देख के भी अनदेखा किया। ऊपर से उस दिन मैने उसकी बहन को ऐसे चोदा की उसकी सिसकियाँ निकलती रहे। और उसे चुदाई का फुल मजा आये। रौशनी ने एंड तक हम दोनों की चुदाई को देखी और फिर मेरा छुट गया तो वो वहाँ से खिसक ली।

पहले वो मेरे से बहुत मजाक मस्ती करती थी। पर पिछले कुछ वक्त से वो उखड़ी सी रहती थी। मुझे देख के या तो डरती थी या शर्मा जाती थी। मै भी समझता था की इस उम्र मे शरीर मे बहुत बदलाव होते हे। मैने रौशनी को गिफ्ट देना और उसकी दीदी घर पर ना हो तो सेड्युस करना चालू कर दिया था। वो हालांकि मोस्ट ऑफ़ ऐसा नहीं होने देती थी की हम दोनों घर मे अकेले हो। अरे हां मै बोलना भूल गया की वो अपनी पढ़ाई की वजह से हमारे साथ मे रहती हे। उसके माँ बाप यानी की मेरे सास ससुर गाँव मे हे। बहन जीजा इसी शहर मे हे तो तू उन्के घर ही रह ले ऐसा उसे कहा गया था। और मेरे ससुर जी मुझे हर महीने उसकी खर्ची देते थे।

फिर एक दिन मै और रौशनी घर पर अकेले थे। मेरी वाइफ अपने लिए शोपिंग करने के लिए गई थी। रौशनी सोफे के ऊपर बैठी हुई थी टीवी देखने के लिए। मै उसके पास मे ही बैठ गया। उसने मुझे देखा और वो जाने लगी। उसका हाथ पकड़ के मैने उसे बिठा दिया वापस और कहा, कहाँ भागती हो?

वो बोली, जीजू कुछ काम याद आ गया।

मैने कहा, फिर कर लेना।

वो बैठी। मैने अपनी जांघो को उसकी जांघो से लगा दिया था। वो काँप सी रही थी। उसका ध्यान टीवी मे नहीं था। ना ही मेरा! मेरा लण्ड पेंट मे मोंस्टर बन रहा था। वो जोर जोर से साँसे ले रही थी। और फिर वो भाग खड़ी हुई वहाँ से। मेरा लण्ड धरा का धरा रह गया। मैने सोचा की साली के अन्दर वासना की आग को पूरी तरह से भडकाना पड़ेगा। उसी शाम को मै रेलवे स्टेशन पर गया। वहां पर बुक वाले से मटिरियल माँगा गरम। उसने मुझे पोर्न फोटोस की और चुदाई की कहानियाओं की एक किताब बबिता भाभी दिखाई। बबिता भाभी नाम की किरदार कैसे अलग अलग लोगों के लण्ड लेती हे उसकी कहानियाँ थी उसके अन्दर। मैने फट फट पेज बदले तो उसका और उसके जीजा का भी एक चेप्टर था। मैने किताब खरीदी और फिर घर आ गया।

फीर मैने जीजा साली के काण्ड के चेप्टर मे रौशनी, आई लव यु और रौशनी इस वेरी चुदाईी वगेरह अपने पेन से लिखा। कहानियाँ पढ़ी तो वो सब की सब मसालेवाली थी और लण्ड खड़ा हो गया मेरा। मै जानता था की रौशनी इसे पढेगी तो उसकी चुत मे भी आग लगेगी।

अब मुझे इन्तजार था बीवी के कही जाने का। और वो दिन पुरे महीने के बाद आया। बीवी को ऑफिस मे से दो दिन के लिए जाना था। मैने अपनी ऑफिस की मीटिंग का बहाना बताया और नहीं गया। बीवी के जाने के बाद मैने बबिता भाभी की किताब निकाली और उसे रौशनी के रूम मे चुपके से रख आया। मोएँ ऑफिस से जल्दी आ गया वापस रौशनी के कोलेज के आने से पहले ही। फिर मै एक बरमूडा पहन के बैठा और अन्दर मैने कुछ नहीं पहना था। रौशनी आई और वो कमरे मे गई। मैने किताब ऐसी रखी थी की उसकी नजर फट से पड़े उसके ऊपर।

रौशनी के कमरे की विंडो ससे छिप के देखा तो वो किताब के पन्ने फेरने लगी। शायद उसने थोडा बहुत पढ़ा भी। फिर शायद उसकी नजर रौशनी आई लव यु वगेरह के ऊपर पड़ी। वो मन ही मन हंस रही थी। और उसने वो कहानी पूरी पढ़ी। बबिता भाभी का किरदार सविता भाभी से भी रोचक था इसलिए उसकी चुत गर्म हो गई। उसने एक बार अपनी चुत को सहलाया और फिर वो किताब को रख के नहाने के लिए चली गई।

वो नहा के आई तो मै उसके पीछे बाथरूम मे घुसा। जानबूझ के मै तोवेल नहीं ले गया अपने साथ। मैने रौशनी की पेंटी देखी और उसे सूंघी। नाजुक चुत की खुसबू सूंघी और मेरे लण्ड मे तूफ़ान आ गया। मैने शावर ओन किया और नहाने लगा। फिर पांच मिनिट के बाद्द मैने अपने लण्ड के ऊपर साबुन लगा के हलकी सी मुठ मार के लण्ड को एकदम कडक कर लिया।

फिर मैने आवाज लगाईं, रौशनी प्लीज़ तोवेल देना मुझे।

वो शायद बाल ही सुखा रही थी अपने। मेरी आवाज सुन के वो तोवेल ले के आई। उसने हलके से नोक किया दरवाजे को और बोली, जीजू।

मैने दरवाजे को ऐसे खोला की वो मेरे नंगे बदन और लण्ड दोनों को देख सके। उसकी नजर मेरे लण्ड पर पड़ी और उसने मुहं फेर लिया और अपने हाथ को अन्दर कर के तोवेल देने लगी। मैने हिम्मत कर के उसके हाथ को पकड़ा और वो मुझे देखने लगी। उसकी आँखों मे बहुत कुछ था, शायद वासना भी!

मैने और हिम्मत कर के उसे बाथरूम मे खिंच लिया। वो बोली, जीजू मै भीग जाउंगी।

मैने कुछ नहीं बोला और उसे अपने बदन से लगा के उसके होंठो को चूसने लगा। वो छटपटाइ पर मेरी गिरफ्त से निकलने नहीं दिया मैने उसे। वो अपने चुचियों के भीगने को देख रही थी और मै उसके होंठो को जोर जोर से चूसने लगा। एक मिनिट तक उसका आखरी संघर्ष चला। और फिर उसके हाथ मेरी कमर के ऊपर आ गए। वो मुझे अपनी तरफ खिंच रही थी। मैने उसे दिवार से लगा दिया और उसके होंठो को चूसते हुए उसके पतले गाउन के ऊपर से उसकी जवान चूचियां मसलने लगा। मेरा लण्ड एकदम खड़ा था और उसकी चुत के बहुत ऊपर था। मै हाईट मे उस से काफी लम्बा था इसलिए मेरा लण्ड उसकी छाती के निचे टच हो रहा था। रौशनी की गांड पर हाथ दबा के मैने उसके एस चिक्स को खोला और दोनों बम्स को प्यार से मसल दिए।

मेरे होंठो के ऊपर मेरी इस जवान साली की सिसकियों का अहसास हुआ। मैने अपने होंठो को अब उसके लिप्स से हटा के उसकी छाती के ऊपर रखा। चुचियों के ऊपर के हिस्से को चूसते हुए मैने उसकी कमर मे हाथ को लगा दिए और वो भी अह्ह्ह्ह अह्ह्ह कर के चुदास का अहसास करवा रही थी। मैने उसके हाथ मे अपना लण्ड पकड़ा दिया। वो लण्ड को मुठ्ठी मे ऐसे दबा रही थी जैसे किसी ने बड़े काम की चीज दे दी थी उसे।

फिर मैने उसके गाउन को फाड़ ही दिया। उसने ब्रा नहीं पहनी थी। फिर मैने उसके स्कर्ट को भी फाड़ा और अंदर की पेंटी को भी। फिर उसे दिवार पकड़ा के खड़ा कर दिया। हमारे ठीक ऊपर शावर था और उसके पानी के फ़ोर्स से मेरी आँखे बंद हो रही थी इसलिए मैने उसे एकदम स्लो कर दिया। रौशनी का मुहं दिवार की साइड कर के मै निचे बैठा और उसकी जांघो के पिछले हिस्से के ऊपर अपने गर्म होंठो का अहसास दिया उसे। वो सिहर उठी और मैने उसकी दोनों जांघो को हाथ मे पकड़ के हिलाई। वो चुदास के मारे अह्ह्ह अह्ह्ह्ह करती रही। मैने अपने हाथो को और ऊपर किया और गांड के निचे के हिस्से को दबाया। वो मस्तिया गई। मैने उसके एस चिक्स को खोला। उसकी गांड चिकनी थी और स्लाईट ब्राउन रंग का एसहोल था उसका। मैने साबुन हाथ मे ले के उसकी गांड पर लगाया। शोवर का पानी उसे अपनेआप धोने लगा। रौशनी थिरक उठी। उसकी ये पहली चुदाई थी शायद।

मेरे लण्ड के भी बारह बजे हुए थे। मैने रौशनी की चिक्स को खोला और अपनी जबान से उसकी गांड के छेद को थोडा हिलाया। उसकी मुठ्ठियाँ बंद हो गई और इस चरम सुख को लोक करने लगी वो। मैने दोनों एस चिक्स को खोल के अपनी जबान अब और भी जोर जोर से रगड़ी उसके छेद पर। अह्ह्ह्ह अह्ह्ह कर बैठी मेरी ये कच्ची उम्र की साली!

मै गांड को चाट के आगे हाथ कर के उसकी चुत को भी सहलाने लगा था अब। उसके लिए ये सब बहुत था और उसकी सिसकियाँ बढती ही जा रही थी। मैने रौशनी की चुत के ऊपर हाथ रखा तो वो एकदम गरम थी। मैने उसे अपनी तरफ घुमाया। उसकी चुत जैसे मेगो के अंदर छुरी मार के काटी हो पर फांको को अलग न किया हो वैसी थी। खड़ी दरार के ऊपर ऊँगली घिसी मैने तो वो एकदम गरम थी और अन्दर से पानी भी छूटा हुआ था। मैने ऊँगली को चाट लिया। रौशनी आँखे बंद कर गई थी। शायद उसकी मुझे फेस करने की हिम्मत नहीं थी। मैने उसकी चुत की फांको को खोला। मेरे सामने एक हसीन और एकदम टाईट चुत थी। जिसे चोदने के ख़याल से ही मेरे लण्ड मे वासना का एक अलग ही सैलाब उमड़ रहा था।

रौशनी की एक टांग को उठा के मैने अपने कंधे के ऊपर रखा और अपने मुहं को उसकी चुत की तरफ घुसाया। जाहिर हे की उसकी फांके खुल गई। मैने जैसे ही अपने होंठो को उसकी चुत पर लगाया उसके अंदर की औरत की वासना का सैलाब निकल पड़ा। अह्ह्ह्ह अह्ह्हह्येस्स्स्स जीजू अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्ह आह्ह्ह मजा आ रहा हे अह्ह्ह्ह अह्ह्ह!

उसने मेरे बाल जोर से पकडे हुए थे। और मै चुत को आइसक्रीम के जैसे चाट के उसे लिकिंग का प्लीजर दे रहा था। वो भी एकदम मस्ती मे मुझे अह्ह्ह अह्ह्ह की सिसकियों से पागल बना रही थी। मेरी जीभ जब उसके छेद मे घुसी तो उसकी बस ही हो गई। एक दो लिकिंग के अन्दर ही उसके योनी के रस मेरी जीभ पर आया छूटे और उसके बदन मे झटके से लगे। वो खाली हो गई और उसके पाँव मे एनर्जी कम होती लगी। मैने उसके दुसरे पाँव को भी अपने कंधे के ऊपर ले लिया। उसका पूरा वेट मेरे ऊपरथा अब। वो दिवार के सहारे मेरे कंधो के ऊपर सवार थी और मै अपनी इस हसीन और कच्ची साली की चुत को और जोर जोर से चाट रहा था।

एक मिनिट और मैने उसकी चुत को ऐसे जोर जोर से चूसा। और फिर वो निचे उतर गई अपने आप ही।

मै उसे पहले चुदाई मे ज्यादा जोर नहीं करना चाहता था इसलिए मैने उसे ब्लोवजोब के लिए पूछा भी नहीं। बाथरूम के फर्श के ऊपर उसे लिटा के मैने उसके पुरे बदन के ऊपर साबुन लगाया। और फिर शावर फुल कर के उसे नहला दिया। फिर मैने अपने लण्ड को उसकी चुत के ऊपर रख के उसकी टांगो को खोला। लण्ड सही जगह लगा था क्यूंकि मुझे सुपाडे के ऊपर गर्मी और चिपचिपेपन का अहसास हो गया था। रौशनी को किस कर के जैसे ही मैने एक झटका दिया। उसकी अंतड़ियो मे जैसे लण्ड घुसा दिया हो वैसे अप अपने पेट को पकड़ के जोर से चीख पड़ी, अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आह्ह्ह्हह्ह जीजू अह्ह्ह्ह, मर गई अह्ह्ह्ह निकालो प्लीज!

मैने उसे आगे कुछ कहने नहीं दिया और उसके होंठो के ऊपर अपने होंठो को रख के चूमने लगा। वो उह्ह उह्ह कर रही थी पर उसके होंठो बंद थे इसलिए कुछ बहार नहीं आ रही थी आवाज। मेरा आधा लण्ड उसकी चुत मे था। वो एक मिनिट छटपटाई और मैने उसे किस किये और उसके चुचियों मसले। फिर वो थोडा एडजस्ट हुई और शांत भी। मैने तभी एक और झटका दे के अपने साड़े पांच इंच के लण्ड मे से पुरे 5 इंच अन्दर कर दिए। वो दर्द से बौखला उठी। पर उसे भी पता था की कुछ देर मे शांति मिलेगी। वो मेरे सिने से लिपट गई और अपने नेल पोलिश वाले नाख़ून से मेरी पीठ को खुरचने लगी।

उसे शांति मिल गई थी। और अब वो मुझे सपोर्ट करने लगी थी। उसकी कमर हिलने लगी थी। और उसकी ग्रिप ढीली हुई थी। मैने उसके होंठो को आजाद किया और वो बोली, बाप रे जीजू इट पेइन्स अ लोट!

मैने कहा, जानू यु विल एन्जॉय इट, ट्रस्ट मी!

वो मेरे गले लग गई और मैने लौड़े को उसकी चुत मे चलाने लगा। उसकी कमर भी हिल रही थी और वो मेरे लण्ड से चुदने के मजे को लूट रही थी। उसकी गांड ऊपर निचे हो रही थी और वो मजे से चुदवाने लगी थी। मेरे लण्ड और उसके चुत का संगम एकदम टाईट था क्यूंकि आज उसका ओपनिंग जो था, उसने अपनी चुत से बहते हुए खून को देखा नहीं था। और शावर ओन होने की वजह से वो सब पानी के साथ बह रहा था। इसलिए मै आश्वस्त था की वो देखेगी भी नहीं शायद तो।

मेरे झटके तीव्र होते गए और रौशनी की सिसकियाँ भी। उसे भी अब लण्ड लेने मे मजा आने लगा था। पहले चुदाई मे ज्यादा इधर उधर करना ठीक नहीं था। इसलिए मै रौशनी को सामान्य और प्रचलति मिशनरी पोज मे ही चोदना चाहता था। और इस पोज़ मे उसने भी जान लगा दी अपने जीजा यानी की मुझे खुश करने के लिए।

मैने उसे 10 मिनिट चोदा और उसकी चुत फिर से सावन भादों हो गई। मेरे लण्ड के ऊपर चिपचिपाहट आई। और मेरे लण्ड को उसकी वजह से अलग ही उत्तेजना सी हुई। 2 मिनट के अन्दर मेरे लण्ड के पानी ने उसकी चुत को भर दिया। वो थक हे वही लेटी रही। मैने जब लण्ड को अपनी इस हॉट साली की चुत से निकाला तो उसके ऊपर वीर्य और उसकी चुत का पानी लगा हुआ था। रौशनी को मजा आ गया था और उसकी पुष्टि उसने मुझे गले लगा के की।

मैने रौशनी को साबुन से रगड़ रगड़ के साफ़ किया। अच्छा हुआ की उसने अपना खून नहीं देखा वरना बहुत डरती। पर शावर चालू होने की वजह से खून चोदने के समय ही सब बह गया था।

फिर मै उसकी चुत के अन्दर पानी की पिचकारी मारी ताकि वो गर्भ से ना हो जाए। कपडे पहन के मै सीधे मेडिकल गया और एक पेक्ट कंडोम और अनवांटेड टेबलेट ले आया। रौशनी को और कुछ घंटे चोदने का चांस था इसलिए मैने अगले दिन के लिए बॉस को फोन कर के छुट्टी भी ले ली!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *